Header Ads

"मैं ठीक हूं अंकल, मेरे परिवार को बता दें" : उत्तरकाशी के टनल में फंसे मजदूर ने अधिकारी से कहा

उत्तरकाशी: उत्तराखंड के उत्तरकाशी में निर्माणाधीन सिल्क्यारा टनल के धंसने (Uttarakhand Tunnel Collapse)के बाद करीब 5 दिन से 40 मजदूर फंसे हैं. इन्हें निकालने की हर कोशिश अब तक नाकामयाब रही है. गुरुवार सुबह नए सिरे से 'अमेरिकन ऑगर्स' मशीन को इंस्टॉल कर रेस्क्यू (Rescue Operations)का काम शुरू किया गया है. इस मुश्किल स्थिति में भी मजदूरों का हौसला बुलंद है. उन्हें उम्मीद है कि वो जल्द ही सुरक्षित बाहर निकाल लिए जाएंगे. रेस्क्यू ऑपरेशन की निगरानी कर रहे अधिकारी बीच-बीच में इन मजदूरों से वॉकी-टॉकी और पाइप के जरिए उनके परिवार के सदस्यों से बात करा रहे हैं. दो दिन पहले साइट के ऑब्जर्वर नेगी ने अपने बेटे से बात की थी. अब एक और मजदूर ने अधिकारी के जरिए अपने परिवार के लिए मैसेज भेजा है. मंगलवार को एक मजदूर ने पाइप के जरिए बेटे से की थी बात
इससे पहले मंगलवार को उत्तराखंड के कोटद्वार के गब्बर सिंह नेगी ने पाइप के जरिए अपने बेटे से बात की थी. नेगी ने अपने बेटे से कहा था कि उन्हें खाना-पानी मिल रहा है. जल्द ही रेस्क्यू टीम सभी मजदूरों को बाहर निकाल लेगी. नेगी इस साइट पर ऑब्जर्वर का काम करते हैं. उन्होंने टनल में मजदूरों को ऑक्सीजन की सप्लाई किए जाने वाले पाइप के जरिए अपने बेटे से बात की थी. NDTV ने मजदूर नेगी के बेटे आकाश से मंगलवार को बात की. उन्होंने बताया, "मैंने अपने पिता से पाइप के जरिए बात की. पाइप ये सुनिश्चित करने के लिए लगाया गया है कि फंसे हुए मजदूरों तक ऑक्सीजन ठीक तरीके से पहुंचे." आकाश बताते हैं, "मेरे पिता एक ऑब्जर्वर के रूप में काम करते हैं. मैंने आज उनसे बात की. उन्होंने कहा कि वह सभी का मनोबल ऊंचा रखने में मदद कर रहे हैं. उन्होंने मुझसे घर पर सभी को चिंता न करने के लिए कहने के लिए कहा. मेरे पिता ने कहा कि हादसे में कोई भी घायल नहीं हुआ है और उन्हें पर्याप्त खाना-पानी मिल रहा है. इंजीनियरों ने मुझे बताया कि उन्हें कुछ घंटों में रेस्क्यू कर लिया जाएगा. मुझे उम्मीद है कि ऐसा होगा. नेगी के बड़े भाई महाराज भी हादसे के दिन साइट पर थे. उन्होंने बताया कि उनके भाई 22 साल से ज्यादा समय से इस कंपनी के साथ हैं, जो सुरंग के निर्माण में शामिल है. महाराज ने कहा, "मेरे भाई के पास बहुत अनुभव है. यही कारण है कि उनके साथ जो मजदूर हैं वे सुरक्षित हैं. कंपनी के अधिकारियों ने कहा कि उन्हें भोजन, पानी और चाय देने के लिए एक पाइप का इस्तेमाल किया जा रहा है
चारधाम प्रोजेक्ट के तहत बनाई जा रही है टनल चारधाम प्रोजेक्ट के तहत यह टनल ​​​​ब्रह्मखाल और यमुनोत्री नेशनल हाईवे पर सिल्क्यारा और डंडलगांव के बीच बनाई जा रही है. NHIDCL के डायरेक्टर टेक्निकल अतुल कुमार ने सोमवार को बताया कि टनल से मलबा हटाने के दौरान ऊपर से लगातार मिट्‌टी धंस रही है. इससे रेस्क्यू में दिक्कत आ रही है. हमने अब स्टील पाइप के जरिए मजदूरों को निकालने का प्लान किया है. बफर जोन में फंसे हैं मजदूर अधिकारियों ने कहा कि मजदूर बफर जोन में फंस गए हैं और उनके पास इधर-उधर घूमने के लिए पर्याप्त जगह है. एक आपदा प्रतिक्रिया अधिकारी ने कहा, "उनके पास चलने और सांस लेने के लिए लगभग 400 मीटर का बफर स्पेस है."

No comments

Powered by Blogger.