Header Ads

जज साहब का ऐसा फेंसला लिखने वाला ही बेहोश

कोलकाता हाईकोर्ट में जज साहब द्वारा जब भगवान शिव जी के प्रतीक शिवलिंग को हटाने का निर्णय लिया गया तभी वहा के रजिस्ट्रार द्वारा फैंसला लिखते समय बेहोश होकर गिर पड़े । 
यह मामला है दो पक्षों का जब एक पक्ष का आरोप था कि उसकी जमीन पर दूसरे पक्षकार द्वारा जमीन हड़पने के लिए शिवलिंग (शिव का प्रतीक) रखा गया है और पूजा अर्चना भी की जा रही हैं उसके बाद एक पक्षकार द्वारा न्यायालय में जमीन पाने के लिए वाद दायर किया गया उक्त वाद को वकील साहब द्वारा न्यायालय में वाद दाखिल करवाया गया जब पक्षकारों द्वारा एक दूसरे पर गम्भीर आरोप लगाए गए उसके बाद एक पक्षकार शिवलिंग  (शिव का प्रतीक) का जिक्र किया गया तभी
 कोलकाता हाईकोर्ट में जज साहब द्वारा जब भगवान शिव जी के प्रतीक शिवलिंग को हटाने का निर्णय लिया गया तभी वहा के रजिस्ट्रार द्वारा फैंसला लिखते समय बेहोश होकर गिर पड़े  उसके बाद जज साहब द्वारा फैंसला बदल दिया गया । भगवान शिव की प्रतिमा पर और भगवान शिव पर भक्तो का और भी आस्था और प्रेम बड गया । शिव हमेशा अपने भक्तो के साथ रहते हैं जब जब धर्म की बात आती तब तब अपने आप ही इतिहास सुनहरे अक्षरों से अंकित होता आ रहा है । लेकिन बात ये है कि इस बार भगवान द्वारा अपने प्रतीक की रक्षा करनी पड़ी है । हर हर महादेव
सौजन्य :- सोनप्रतिक

No comments

Powered by Blogger.