Header Ads

आई फ्लू' की चपेट में बाड़मेर, बढ़ रहे आंखों के मरीज, सात सौ के पार पहुंची ओपीडी

सरहदी जिले बाड़मेर में इन दिनों आंखों की वायरल बीमारी 'आई फ्लू' कहर बरपा रही है 'आई फ्लू' के चलते बाड़मेर के मेडिकल कॉलेज राजकीय अस्पताल में मरीजों की ओपीडी 700 के पार पहुंच गई है।

अस्पताल के नेत्र विभाग के बाहर 'आई फ्लू' से ग्रसित मरीजों की लंबी-लंबी कतारें देखने को मिल रही हैं।

शहर में दो हजार लोग 'आई फ्लू' की चपेट में
अस्पताल प्रशासन का कहना है कि बारिश के मौसम के चलते यह वायरल बीमारी फैल रही है। राजकीय अस्पताल की ओपीडी में प्रतिदिन 700 से ज्यादा मरीज आ रहे हैं। बात करें शहर की तो अब तक करीब दो हजार से ज्यादा लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग इस बीमारी से बचाव के लिए लोगों को भीड़भाड़ के इलाके से दूर रहने जो आंखों पर चश्मा लगाने की सलाह दे रहा है।


'आई फ्लू' के लक्षण

बाड़मेर के राजकीय मेडिकल अस्पताल में कार्यरत नेत्र विशेषज्ञ डॉ. शक्ति राजपुरोहित कहना है कि इस बीमारी के शुरुआती लक्षण आंखें लाल होना, आंखों में खुजली आना, सूजन आना जैसे सामान्य लक्षण सामने आ रहे हैं। वहीं, बच्चों में इस बीमारी के चलते बुखार की शिकायत हो सकती है। इससे बचाव के लिए आसपास साफ-सफाई आंखों को साफ पानी से धोने साफ कपड़ा एवं आंखों पर चश्मा लगाने की सलाह दी जा रही है।

4 से 6 दिन रहता है फ्लू का असर
डॉक्टर शक्ति राजपुरोहित का कहना है कि इस फ्लू का

असर 4 से 6 दिन तक रहता है। इस अवधि के दौरान मरीज को छोटे बच्चों व बुजुर्गों से दूर रहने की सलाह दी जा रही है।


ऐसे करें बचाव
आंखों पर चश्मा पहनें। हाथों को सैनिटाइजर से साफ रखें। आंखों को हाथों से छूने से बचें। ये सावधानी रखकर इस फ्लू से बचा जा सकता है।

मौसम में ही रहे बदलाव के कारण राजस्थान में कई बीमारियों का प्रकोप बढ़ने लगा है. इनमें सबसे ज्यादा कहर आई फ्लू ढा रहा है. यह तेजी से प्रदेशभर में पैर पसार रहा है. राजधानी जयपुर समेत प्रदेश के अन्य सरकारी और निजी अस्पतालों में मौसमी बीमारियों से पीड़ित मरीजों की बाढ़ सी आ गई है।

कंजंक्टिवाइटिस यानि आंख में फैल रहे इस इंफेक्शन का इलाज कराने के लिए जयपुर शहर के एसएमएस हॉस्पिटल की ओपीडी में मरीजों का तांता लगा हुआ है. अकेले जयपुर के सवाई मान सिंह अस्पताल में आई-फ्लू से संक्रमित रोजाना करीब डेढ़ सौ से दो सौ मरीज आ रहे हैं. इसी तरह जयपुरिया अस्पताल में नेत्ररोग विभाग की ओपीडी में भी दो तिहाई से ज्यादा मरीज आई-फ्लू से पीड़ित सामने आ रहे हैं. आई फ्लू का असर ज्यादातर छोटे बच्चों में देखा जा रहा. आई फ्लू इंफेक्शन का असर पीड़ित में करीब 3 से 7 दिन तक रहता है. ऑप्थल्मालॉजिस्ट की मानें तो यह संक्रामक वायरस जनित रोग है. इसमें बचाव रखा जाना जरूरी है।

No comments

Powered by Blogger.